Motivational Story – Learn from Lord Ram and Revolutionary Bhagat Singh

Lord Ram Lakshman and Sita were traveling during 14 years of exile while visiting a lot of devotees while traveling. While sitting in the shadow of a tree, Taucey Time asks one of those devotees, Lord Ram, Can you tell us what is the difference between good and evil, Lord Rama smiles when there is only difference between good and evil The sandalwood trees and Kulhari.

The only difference is as much as a sandalwood tree and again ask in the Kaulari, can you tell it in detail, because God does not understand anything, then Lord Rama explains it in detail, like all good things, sandal The tree leaves its fragrance all around for free and knows how to cut and destroy the khalari cable like bad things, even the sandalwood tree can be cut from ax. The person also makes everybody happy with his smell, and not only after cutting sandalwood, its use is grinding and applied on maya, and the khalari, which becomes dull after cutting the tree, then it is made red by keeping it in the fire.

भगवान राम- लक्ष्मण और सीता 14 वर्ष के वनवास के दौरान यात्रा कर रहे थे तो उन्हें बहुत सारे श्रद्धालु देखें यात्रा करते दौरान तो वह एक वृक्ष की छाया में बैठ गएतो उसी टइम उन सभी श्रद्धालुओं में से एक श्रद्धालु भगवान राम से पूछता है हे भगवान क्या आप हमें बता सकते हैं कि अच्छे व बुरे में क्या अंतर होता है तो भगवान राम ने बोले मुस्कुराते हुए अच्छे और बुरे मेंकेवल इतना ही फर्क होता है जितना की एक चंदन के पेड़ और कुल्हारी में फिर से पूछता है क्या आप इसे विस्तार से बता सकते हैं भगवान क्योंकि हमें कुछ समझ में आया नहीं तो भगवान राम उसे विस्तार से बताते हैं सभी अच्छी वस्तु की तरह चंदन का पेड़ अपनी खुशबू मुफ्त में चारों तरफ छोड़ता है और बुरी वस्तुओं की तरह कुल्हारी केबल काटना और विनाश करना जानता है यहां तक की चंदन का पेड़ कुल्हाड़ी से काटने के बाद भी अपनी महक से सब को खुश कर देता है और यही नहीं चंदन की लकड़ी कटने के बाद उसका यूज़ उसे पीसकर माया पर लगाया जाता है और कुल्हारी जोकि पेड़ काटने के बाद धारहीन हो जाती है तो उसे आग में रख कर लाल किया जाता है और उसे तेज धार करने के लिए पीटा जाता है

Human beings Who live for others and do welfare of society and Serve the Country

The composition of God is very strange, in which world, all the root chetans in their existence are in their existence, those who do a lot of good deeds, and those who do bad deeds on the other side, are said to be that those who do good deeds live longer Those who do bad things do not survive for a long time but it is not that its witness is seen from our old history as you see our history Our hero, Khudiram Bose Bhagat Singh Chandrashekhar Azad Laxmibai, in the witness, etc.

These people are not living for long. Have you not done this good work? These people have done very good things then we can not say that what is good We do not trust the people. Now let me also tell you that the good deeds that were done were alive for how long they lived. Mr. Ram Bose was born in 18 hundred people and he died in 1988, he survived for 19 years and at the age of 19, the heaven went to Sidh and it got his name illuminated.

If we see Lakshmi Bai Lakshmi Bai It was born in 1834 and he died in 18 to 58 AD, Lakshmi Bai and his name and his name spreading abroad in the world, so that today we know the names of heroes, there are many people who Persons have to have very little Arcot died at a young age and good work we need that we do a good job so that it’s in our name in history.

ईश्वर की रचना बड़ी विचित्र है उन्ही की दुनिया में सारे जड़ चेतन अपने अस्तित्व में है एक और अच्छे काम करने वाले लोग तो दूसरी ओर बुरे काम करने वाले लोग बट कहा जाता है कि जो अच्छे काम करते हैं वह ज्यादा दिन तक जीवित रहते हैं जो बुरे काम करते हैं कोई ज्यादा दिन तक जीवित नहीं रहते हैं बट ऐसा नहीं है इसकी गवाह हमारे पुराने इतिहास ओं से देखी जा रही है जैसे कि आप देखें हमारे इतिहास की गवाह में हमारे वीर नेता खुदीराम बोस ,भगत सिंह ,चंद्रशेखर आजाद, लक्ष्मीबाई आदि यह लोग ज्यादा दिन तक जीवित नहीं रहे तू क्या यह लोग अच्छे काम नहीं किए हैं नहीं यह लोग तो बहुत अच्छे काम किए हैं तो यह हम नहीं कह सकते हैं कि जो अच्छे काम करते हैं वह ज्यादा दिन तक जीवित रहते हैं तो हम लोगों को इस पर भरोसा नहीं करना चाहिए अब मैं आपको यह भी बता दो कि जो अच्छे काम किए थे वह कितने साल तक जीवित रहे थे खुदीराम बोस का जन्म 18 सौ नवासी में हुआ था और उनकी मृत्यु 1988 में हो गई यह 19 साल तक जीवित रहे और 19 साल की उम्र में स्वर्ग सिधार गए और यह अपना नाम रोशन करके गए ऐसे ही यदि हम देखें तो लक्ष्मी बाई लक्ष्मी बाई का जन्म 18 34 में हुआ था और उनकी मृत्यु 1858 ईसवी में हो गया था लक्ष्मी बाई और अपना नाम और अपना नाम दुनिया में फैलाते हुए स्वर्ग जिससे कि आज हम वीर नारियों के नाम से जानते हैं ऐसे बहुत से लोग हैं जो कि बहुत कम उम्र में स्वर्ग सिधार गए और अच्छे काम करके गए हैं तो हमें भी चाहिए कि हम भी कुछ अच्छा काम करें जिससे कि हमारा भी नाम इतिहास में हो जाए

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: